सतरेंगा पिकनिक स्पॉट : Satranga Korba : Chattisgarh Tourism Places

फोटो : सशी साहू 

Satranga : कोरबा शहर से लगभग 38 कि.मी. और बिलासपुर शहर से लगभग 126 कि.मी. दूर बांगो रिसर्वायर में सतरेंगा गांव पे स्थित है यह झील जो खुबसूरत पहाड़ो से घिरा हुआ है | इस झील का आनन्द लेने लोग बड़ी दूर - दूर से आते है | यहां पहुंचने पर सबसे पहले आपको दुर से ही एक खुबसुरत महादेव पहाड़ का नजारा दिखेगा जो इस जगह का एक दर्शनीय स्‍थल है जहां बहुत सारे लोग इस नेचुरल ब्‍युटी की फोटो भी लेते जाते हैं, इसके अलावा आपको यहां एक 1400 साल पुराना साल वृक्ष (Soreya Robasta) भी देखने को मिलेगा, जो आपको सतरेंगा गांव की बस्‍ती से लगभग 500 मी. की दूरी पर दिखेगी। 

2020 में हुई मीटिंग
सतरेंगा की इस सुदर पिकनिक स्‍पॉट को विकसित करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा यहां फरवरी 2020 में हुई मीटिंग के बाद इस जगह को और भी अच्छा बनाया गया है, यहां खुबसुरत गार्डनो का निर्माण, रेस्‍ट हाउस, वाटर स्‍पोर्टस और टिकिटिंग की भी व्‍यवस्‍था की गयी है, यहां एक कैन्‍टिन एरिया भी बनाया गया है, जहां तरह - तरह के खाने की चीजें आपको देखने व खाने को मिलेंगी यह दुकाने महिला समुह द्वारा चलाई जाती है, जिनसे उनको काम और टुरिस्‍ट्स के लिए एक अच्‍छा टुअर अनुभव मिल पाता हैं। 
हसदेव क्रूज एंड एडवेंचर स्पोर्ट्स सोसाइटी का गठन 
राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ राज्य में पहली बार जल पर्यटन को बढ़ावा देने और स्थानीय निवासियों को रोजगार के अवसर प्रदान करने के साथ स्थानीय विकास के उद्देश्य से जिले में पहला  हसदेव क्रूज एंड एडवेंचर स्पोर्ट्स सोसाइटी कोरबा ’का गठन किया गया है।

बड़े बांधों में है सामिल 
बांगो बांध का निर्माण छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में हसदेव नदी पर किया गया है। यह छत्तीसगढ़ राज्य का सबसे बड़ा और पहला बहुउद्देश्यीय जल परियोजना है। यह बांध मध्य भारत के सबसे बड़े बांधों में से एक है। पहाड़ियों से घिरे इस बांध में बीच में कई छोटे-छोटे द्वीप हैं जो इसकी सुंदरता को बढ़ाते हैं उस छोटे द्वीप मे से एक सतरेंगा भी है ।
पर्यटकों को मिलती है कई सुविधाए 
इस श्रृंखला में, सतरेंगा के स्थानीय निवासियों को पावर मोटर बोट की ड्राइविंग और सुरक्षा से संबंधित प्रशिक्षण दिया गया है। यहाँ बोटिंग, स्पीड बोटिंग, फ्लोटिंग रेस्टोरेंट, ओपन एयर ऑडिटोरियम और रिसॉर्ट आदि सहित पर्यटन गतिविधियां शुरू की गयी है। पर्यटकों को आकर्षित करने  के लिए यहां क्रूज, फ्लोटिंग कॉटेज के निर्माण के साथ-साथ अन्य साहसिक और वाटर स्पोर्ट्स गतिविधियां भी शुरू की गयी है।

पानी पर तैरती पुल 
जिला मुख्यालय को एक साहसिक और जल पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा है। सतरेंगा के बांध में पानी पर तैरता एक पुल बनाया गया है। इस पुल से चलकर पहाड़ियों तक पहुँचता है।यह काफी खूबसूरत व मनमोहक स्थान है . 
सतरेंगा में स्थित रेस्‍ट हाउस
वैसे तो यहां लोगो की भीड़ फैमिली और दोस्‍तों के साथ पिकनिक या बोटिंग, नेचर कैम्‍पिंग के लिए ही होती है, पर रेस्‍ट हाउस बन जाने के बाद लोग यहां रूककर प्रकृति के बीच रहकर अपने फैमिली के साथ समय व्‍यतीत कर पाते है सतरेंगा 

सतरेंगा में घुमने लायक अन्य जगह  
पिकनिक स्‍पॉट के पास कुछ और टुरिस्‍ट प्‍लेसेस भी हैं, जहां पर भी काफी भीड़ होती है, इनमें शामिल है- देवपहरी जलप्रपात, हसदेव-बांगो डैम, बुका जल-विहार और गोल्‍डन आइलैंड ।

सतरेंगा की क्या है खासियत 
सतरेंगा के वन क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की वन औषधियां भी हैं जिनका उपयोग प्राकृतिक उपचार और औषधि के रूप में किया जाता है। इस गाँव में एक 1400 साल पुराना विशालकाय नमकीन पेड़ भी है। यहां का महादेव पर्वत प्राकृतिक सौंदर्य देखते ही बनता है। सतरेंगा के पास देवपहरी  का प्रसिद्ध झरना भी है। इस बाड़े में कई पुरातात्विक धरोहरें भी हैं, जिनमें से शैल चित्र प्रमुख हैं।  
सतरेंगा कैसे पहुँचें
सड़क मार्ग - सतरेंगा तक पहुंचने के लिए पक्की रोड आपको आसानी से मिल जायेगी जिससे आप अपने वाहनों के माध्यम से पहुंच सकते हैं। यह कोरबा शहर से लगभग 38 किलोमीटर और बिलासपुर शहर से लगभग 126 किलोमीटर दूर है |

रेल मार्ग - सतरेंगा से सबसे निकतम रेलवे स्टेशन है कोरबा स्टेशन जिसकी दुरी लगभग 40 किलोमीटर है व बिलासपुर रेलवे स्टेशन लगभग 130 किलोमीटर है

हवाई मार्ग – स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डा रायपुर से लगभग 200 किलोमीटर व बिलासा देवी केवट हवाई अड्डा बिलासपुर से 130 किलोमीटर दूर है 
हमारी राय 
अगर आपको प्राकृतिक की खूबसूरती से काफी लगाव है और आप जंगलो पहाड़ो व झीलों में जाना पसंद करते है तो यहाँ आपको जंगल पहाड़ झील सब देखने को मिलेंगे |
आप यहाँ अपने परिवार के साथ पिकनिक भी बना सकते है व यहाँ बने गार्डन में झूले व बोटो में मजे कर सकते है 





अगर आप हमारी छतीसगढ़ की खूबसूरती के बारे में जानना चाहते है और छत्तीसगढ़ के खबरे  अपने मोबाइल फ़ोन में पाना चाहते है तो हमारे साथ जुड़े रहे हम आपको छत्तीसगढ़ की खूबसूरती और हर छोटी बड़ी खबरों से अवगत कराते रहेंगे...धन्यवाद!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ